Wednesday, March 18, 2015

8

सच बोल के हम सब के गुनाहगार हो गए
मेरे शहर के लोग समझदार हो गए
कह के चले थे मुल्क को बदलेंगे एक रोज़
वो आदमी जो भीड़ में शुमार हो गए !

हमने सुना है रात वो आया था इस गली
उसकी नज़र के हम भी इक शिकार हो गए
जिसको भुलाने पी गए हम सारा मैकदा
वो मिल गया तो मै  के तलबगार हो गए !

पूछे कोई तो बोलना की मर गया साहिब
जो सच कहा तो दोस्त भी मक्कार हो गए
जिनके ज़मीर और जवानी पे दाग है
वो लोग इस निज़ाम में सरकार हो गए !

3 comments:

  1. बहुत खूब .. शानदार शेर हैं ग़ज़ल के ...

    ReplyDelete
  2. अहा क्‍या बात है.........., मेरे शहर के लोग समझदार हो गए। बहुत खूब।

    ReplyDelete