Monday, June 3, 2013

4

तख़्त वाजिब है गुलाम बदल जायेंगे ,
कुछ हाकिमो के अब काम बदल जायेंगे 
देख लीजिये मोहब्बत को जी भर के ,
रात गुज़रेगी तो फिर नाम बदल जायेंगे।

क्या भरम पालिए शोहरत का अब -
महफ़िल वही है बस जाम बदल जायेंगे 
मत भूलिए शुक्रिया अता करना ,
वक़्त के साथ एहसान बदल जायेंगे .

सुना है फ़ौज है सरहद पे खड़ी 
कुछ गिद्धों के शमशान बदल जायेंगे -
जंग क्या है बस एक नज़र है साहब ,
ऐनक बदलते ही अंजाम बदल जायेंगे -

2 comments:

  1. सुना है फ़ौज है सरहद पे खड़ी
    कुछ गिद्धों के शमशान बदल जायेंगे -
    जंग क्या है बस एक नज़र है साहब ,
    ऐनक बदलते ही अंजाम बदल जायेंगे -

    जबरदस्त .. हर मुक्तक लाजवाब ... वाह वाह निकल जाता है मुंह से अपने आप ही ...

    ReplyDelete
  2. अच्छा लिखते हो भाई ..
    अब यह कलम चलती रहे !!
    बधाई !!

    ReplyDelete